नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की पूर्व मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) चित्रा रामकृष्ण और समूह परिचालन अधिकारी आनंद सुब्रमण्यम की कर चोरों के पनाहगाह देश सेशल्स की यात्रा सीबीआई जांच के दयरे में आ गई है. केंद्रीय जांच एजेंसी के अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) उनके खिलाफ ‘को-लोकेशन’ घोटाले की अपनी जांच जारी रखे हुए है.

अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी का मानना है कि यह कोई सैर-सपाटे के लिए की गई यात्रा नहीं थी और इसकी गहन जांच करने की जरूरत है. सीबीआई ने विशेष अदालत से यह भी कहा है कि सुब्रमण्यम की सेशल्स की यात्रा की जांच-पड़ताल की जा रही है.

भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) ने 11 फरवरी को रामकृष्ण और अन्य पर आरोप लगाया था कि उन्होंने सुब्रमण्यम को मुख्य रणनीतिक सलाहकार नियुक्त करने और उन्हें समूह परिचालन अधिकारी तथा प्रबंध निदेश का सलाहकार बनाने में शासन संबंधी चूक की.

सेबी ने अपनी रिपोर्ट में, रामकृष्ण के उस रहस्यमयी योगी के साथ ईमेल बातचीत का भी जिक्र किया था जिसके सुब्रमण्यम होने का संदेह है. ईमेल में सेशल्स की यात्रा का जिक्र था. सेबी ने कहा, ‘‘अज्ञात व्यक्ति ने 17 फरवरी 2015 को रामकृष्ण को लिखा था…बैग तैयार रखिये, मैं अगले महीने सेशल्स की यात्रा की योजना बना रहा हूं, कोशिश करूंगा कि आप मेरे साथ चलें…. ”

अधिकारियों ने बताया कि जांच एजेंसी इस बीच, रामकृष्ण और रीगयाजुरसमा ऐट आउटलुक डॉट कॉम के बीच ईमेल के आदान-प्रदान को हासिल करने की कोशिश कर रही है. सीबीआई की जांच में यह समझा जा रहा है कि सुब्रमण्यम ने यह ईमेल आईडी योगी के तौर पर रामकृष्ण से संवाद करने के लिए बनाई थी. सीबीआई के माइक्रोसॉफ्ट से संपर्क करने की संभावना है ताकि इन ईमेल को हासिल कर तस्वीर साफ हो सके.

administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

3 + 14 =